*लूट*

इंसा इंसा को लूट रहा
नश्वर माया ये कूट रहा
बेमानी हुए रिश्ते-नाते
डर ईश्वर का छूट रहा
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

4 Views
Copy link to share
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित View full profile
You may also like: