Skip to content

ला सकती है तो ला बेटी वापिस देश की पहचान को

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

कविता

July 27, 2016

प्रेम वासना में फर्क जानिए
एक नहीं आकार
प्रेम तो है अमूल्य रचना प्रभु की
वासना तो नीच प्रहार

चमड़ी प्रदर्शन में जुटी देश की बेटी
प्यार को लव बना बैठी
जो प्रेम के चर्चे थे किस्सों में
उसका शव बना बैठी

अंग प्रदर्शन अब है उसका गहना
कोई नहीं सुनती इस सच को बहना

रोता भाई ये खून के आंसू है
जब जीन्स टॉप पर वो मरती है
संस्कृति को लगा रही है दाग
सूट सलवार को लगा दी उसने आग

थोड़ी बहुत सुनने की ताकत थी जो बेटी में
वो नकली खुराको और नौकरियों ने खो दी है
खुद नग्नता नहीं सम्भले क्या सिखाये बेटी को
ऐसी बीज माँ ने बो दी है

गिरते हैं आंसू में मोती जो बेटी तेरे लिए
बचा ले देश के पहनावे को
सूट सलवार देश का गहना
मत स्वीकार जीन्स टॉप के बहकावे को

4 लडकों ने तेरी नग्नता पर जो व्यंग्य किया
सोच क्या जीत लिया

पर सूट सलवार में जो भी तुझ पर लिखेगा
युगों युगों तक गाया जायेगा
होने वाले मां बाप बेबस इस जग में बेटी
तुझे अब उनसे न समझाया जायेगा

कर तरक्की खूब ओ बेटी , पर न लगा कलंक देश की आन को
ला सकती है तो ला बेटी , वापिस देश की पहचान को

Share this:
Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you