.
Skip to content

लाश आशिक़ की उठाई जा रही हैं

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

January 25, 2017

पालकी दुल्हन कि लाई जा रही हैं
लाश आशिक़ की उठाई जा रही हैं

हुस्न की महफ़िल सजाई जा रही हैं
आज फिर क़ीमत लगाई जा रही हैं

फेंक पांसा क्या तमाशा कर रहे वो
वोट की क़ीमत लगाई जा रही हैं

सत्य को दुनिया की नजरों से छुपाकर
बात झूठी क्यो बताई जा रही हैं

भूख से बेहाल है जो लोग उनको
दूर से रोटी दिखाई जा रही हैं

आशिकी का दंभ भरते तो सभी है
पर किसी से क्या निभाई जा रही हैं

याद उनकी ही सताती है कँवल क्यों
जिसके दिल से तू भुलाई जा रही हैं

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
झूठ की चादर उड़ाई जा रही है
झूठ की चादर उड़ाई जा रही है बात कुछ ऐसे बताई जा रही है क्या कहेंगे लोग,कहकर ही सदा से बस शराफत ही डराई जा... Read more
तुम्हारे बिन कयामत
एक नई गजल हमारी जाँ पे आफत हो रही है, तुम्हारे बिन क़यामत हो रही है।। तुम्हारी ख़ामुशी से आज देखो, मुहब्बत की जलालत हो... Read more
मुक्तक :-- जिंदा लाश से लिपटी रही !!
मुक्तक :-- जिंदा लाश से लिपटी रही !! आज मेरी साँस तेरी साँस से लिपटी रही ! और पलकें एक हसीं अहसास से लिपटी रही... Read more
कागज की कीमत
कागज की कीमत बदली है क्या लिखा है इसी बात से किसके साथ रही है संगति कीमत होती इसी बात से जीवन का महत्व बना... Read more