* लाडो *

*लाडो*

मात-पिता की दुनिया-दारी,
घर आंगन की है फुलवारी,
दादा-दादी ने आस तेरे तै,
उनका मान बढाइये लाडो ।
ना गलत कदम तूं ठाईये लाडो ।

सोच समझ के चलना होगा,
दीपक की तरह जलना होगा,
प्यार-व्यार के चक्कर में,
मतन्या ध्यान डिगाईये लाडो ।
ना गलत कदम तूं ठाईये लाडो ।

सब सुखी देखना चाहवै तनै,
दुःख दर्द में आगे पावै तनै,
बस एक ही अरदास तेरे तै,
उन तै दूर ना जाईये लाडो ।
ना गलत कदम तूं ठाईये लाडो ।

बलकार गोरखपुर और के कहणा,
वक्त के आगे सबनै डर के रहणा,
गर्व करे घर-गाम तेरे पे,
उस रस्ते बढ जाईये लाडो ।
ना गलत कदम तूं ठाईये लाडो ।

©® बलकार सिंह हरियाणवी

2 Likes · 1 Comment · 23 Views
Copy link to share
तमन्ना है मेरी कि मैं हर इक दिल तक पहुँच जाऊं, गमो को दूर कर... View full profile
You may also like: