.
Skip to content

“लाडली बिटिया “

pratik jangid

pratik jangid

कविता

January 21, 2017

हर कदम पर माँ बाप का सहारा बन जाती हे !
हर घर आगन को रोशन का जाती हे
जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ……..!!
बेटी होने के साथ साथ बेटे का फर्ज़ भी अच्छे से निभाती हे !
माँ का प्यार और पिता की डाट से कुछ न कुछ सिख जाती हे
हर काम में माँ बाप का हाथ बटाती हे !
जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ……..!!
मीलो दूर होकर भी पास होने का अहसास करा जाती हे !
दिल की हर बात को वो समझ जाती हे !
भाई की गलतियों पर खुद डाट खाती हे !
खुद रोती हे पर सबके सामने गम छुपाती हे !
जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ……..!!

Author
pratik jangid
Recommended Posts
बिटिया
घर आँगन की शान है बिटिया,माँ की जैसे जान है बिटिया बिटिया घर की रौनक होती, चेहरे की मुस्कान है बिटिया ख़ुशी ख़ुशी हर गम... Read more
यहाँ अजन्मी मर जाती है, क्यों माँ कि कोख पर बिटिया| देवी का अनूप रुप है, जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया | संस्कार धरोहर आन... Read more
वो बेटी ही तो है,जो हसना सिखाती है.
वो बेटी ही तो है,जो हसना सिखाती है, चेहरे की मुस्कान पापा को भा जाती है, लाडली होती है बेटियॉ पिता के लिए,सम्मान यही दिलाती... Read more
माँ मेरी माँ
???? माँ मेरी माँ, मुझे छोड़ के मत जाओ कुछ दिन तो मेरे साथ बिताओ। माँ मैं तुम बिन अकेली हो जाती हूँ, जब तुम... Read more