*लम्हों*

गुजरे लम्हों को जाने दो
इक नयी सुबह को आने दो
दिल से अब सारे गम भूलो
तुम गीत खुशी को गाने दो
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

4 Views
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित
You may also like: