.
Skip to content

II लम्हा II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

मुक्तक

February 11, 2017

लम्हा लम्हा याद तुम्हारी,
जर्रा जर्रा महके है l

हर पल ही अब मधुर मिलन है,
प्यासा तन मन चहके है l

इंतजार की बात नहीं अब,
कोई नाज ना नखरे हैं l

मदमस्त पवन के झोंकों सा ,
मन लम्हा-लम्हा बहके है l

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II...मैं आईने के सामने....II
पहले मैं था,जब, रब ने मिलाया आपसे l आईना था सामने,मैं आईने के सामने ll मैं हूं जाने कहां ,होश अब तक आया नहींl मौत... Read more
II  एक चितवन से.....II
एक चितवन से ए मन चपल हो गया l बात कुछ तो रही जो विकल हो गया l जाने क्या कह गई अधखुली सी पलक... Read more
II  रास्ते में हूं...II
रास्ते में हूं, पर उसे ढूंढता l नासमझ हूं यह, क्या ढूंढता ll ईंट बालू के जंगल, वही देवता l फरियादों का क्यों, असर ढूंढ़ता... Read more
II  यादें सता रही है  II
यादें सता रही है गुजरे हुए दिनों की l जो साथ में गुजारे उन कीमती पलों की ll क्या बात मैं बताऊं कहती जो ए... Read more