Skip to content

लम्हा…

sushil sarna

sushil sarna

मुक्तक

May 24, 2017

लम्हा….

न ज़िस्म रखता हूँ मैं न पर रखता हूँ
…मैं कहाँ कभी दिल में ज़ह्र रखता हूँ
…..एक नन्हा सा लम्हा हूँ वक्त का मग़र
…….मैं सीने में सदियों की ख़बर रखता हूँ

सुशील सरना

Share this:
Author
sushil sarna
I,sushil sarna, resident of Jaipur , I am very simple,emotional,transparent and of-course poetry loving person. Passion of poetry., Hamsafar, Paavni,Akshron ke ot se, Shubhastu are my/joint poetry books.Poetry is my passionrn
Recommended for you