23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

लड़कियों के प्यार से डरता हूँ मैं

लड़कियों के प्यार से डरता हूँ मैं !
आज की तलवार से डरता हूँ मैं !!

चाहता हूँ बोल दूँ उसको खुदा ,
किन्तु इस सत्कार से डरता हूँ मैं !!

संगिनी उसको बनाना चाहता ,
पर समय की मार से डरता हूँ मैं !!

पल मे रिश्तों को ये पीछे छोड़ता ,
वक्त की रफ्तार से डरता हूँ मैं !!

पीछा करता जो बसन्तों का सदा ,
आह ! उस पतझार से डरता हूँ मैं !!

ये भले हों शोख औ मनहर नदी ,
किन्तु इनकी धार से डरता हूँ मै !!

जो न जुगनू की तरह झिलमिल करे ,
ऐसे हर अंधकार से डरता हूँ मै !!

जो न जुगनू की तरह हंसकर मिले ,
उस गुले-गुलजार से डरता हूँ मैं !!

09200573071 8871887126

15 Views
Ashish Tiwari
Ashish Tiwari
51 Posts · 6k Views
love is life
You may also like: