.
Skip to content

लघु कहानी -नतीजा

rekha mohan

rekha mohan

लघु कथा

April 14, 2017

लघु कहानी -नतीजा
एक आठ साल की बच्ची पलक के पापा ने ज़लती प्रेस लगा कपड़े को इस्तरी करने लगे ,तभी मोबाईल की घंटी वज़ी | नंबर देखा बात करने लगे, ज़लती प्रेस का ख्याल दिमाग से निकल गया | बात बोस से हो रही थी लम्बी हो गई |पलक जो पास ही खेल रही थी ,धीरे से आकर शरारत से बाल-सुलभ छेडख़ानी करने लगी ।करंट लगा , भयभीत हुई और निढाल चीख से खेल-खेल में बिजली करंट में कुछ पता नहीं चला। सोचकर देखिए, क्या वो पिता अपने आपको कभी माफ कर पाएगा जिसने ज़लती प्रेस आदतन छोटे बच्चों के घर में प्यारी सी बेटी छीन ली। प्रेस पर जब-जब निगाह जायेगी दिल के किसी न किसी कोने में अपनी बेटी के लिए हूक जरूर उठेगी।
बच्चों के प्रति लापरवाही की यह अकेली घटना नहीं है। ऐसे वाकये आए दिन सुनने और पढऩे को मिलते रहते हैं। हम और आप ही में से किसी की छोटी सी गलती या तो पलक जैसे मासूम की जान ले लेती है या फिर उसे जिंदगी भर का दर्द दे जाती है। काश! पलक ना प्रेस छुती इतनी भयानक घटना ना होती । अगर उसे पता होता तो वह शायद छूती भी नहीं।
रेखा मोहन १४/४/२०१७

Author
rekha mohan
Recommended Posts
प्रेम में पीएचडी
एक छोटी सी लम्बी कहानी " प्रेम में पीएचडी " वर्ष २००७ की जुलाई माह का प्रथम दिन था और सोहित पहली बार अपने गाँव... Read more
करवट हर रुकी बात दे रही
तेरी खुशबू छू रही हे जो ठहरी है कल की कुछ रात की कुछ सुबह की याद दे रही आसमान तक झांके जिसको खिड़की से... Read more
रक्षा बंधन
*रक्षाबंधन* मास हैं सावन, त्यौहार हैं पावन, सजी हर कलाई, मिल रही बधाई, बहनों का प्यार, कितना हैं दुलार, लगा भाल तिलक, ठहर गए पलक,... Read more
कविता : आजकल हम बेवजह मुस्कुराने लगे हैं
जिनको कभी थे हम नज़रंदाज़ करते, धड़कन बन दिल में वो समाने लगे हैं ! आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !! बदलने लगा है... Read more