.
Skip to content

लगे मुझको जुदाई में बरस सावन हुआ होगा

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

शेर

January 28, 2017

बरस बीते गले मिलकर, नहीं रोया, नहीं बोला
लगे मुझको जुदाई में बरस सावन हुआ होगा

——————-

लोग कुछ हैं पालते नफरत यही बस सोचकर
प्यार क्यूँ बेइंतहा मुझसे करे है ये जहां

——————-

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’ (भोपाल)

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
तू बरस इतना बरस कि........
बदली भी बदल गयी काली घटा देख बादल में, कही फट चली बोझ से.... तबाही का मंजर देकर, कही बरस पड़ी अन्न दाता की झोली... Read more
मेरी तरह वो भी बिखरता होगा
आया निकल मैं गाँव से दूर, पता कोई मेरा पूछता होगा। बात मन की वो कह न सके, बस निगाहों से ढूँढता होगा। दूर उससे... Read more
मुक्तक
तेरे बगैर मुझको कबतक जीना होगा? जामे-अश्क मुझको कबतक पीना होगा? भटकी हुई है जिन्द़गी राहे-सफर में, जख्मे-दिल को हरपल कबतक सीना होगा? #महादेव_की_कविताऐं'
मुक्तक
मुझको तेरी चाहत में जुदाई क्यों मिली है? मुझको तेरे प्यार में तन्हाई क्यों मिली है? नाकामियों की आहट से डरती है जिन्दगी, मुझको राहे-वफा... Read more