लगे मुझको जुदाई में बरस सावन हुआ होगा

बरस बीते गले मिलकर, नहीं रोया, नहीं बोला
लगे मुझको जुदाई में बरस सावन हुआ होगा

——————-

लोग कुछ हैं पालते नफरत यही बस सोचकर
प्यार क्यूँ बेइंतहा मुझसे करे है ये जहां

——————-

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’ (भोपाल)

Like Comment 0
Views 122

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing