Skip to content

लगन ये कैसी ?

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार

कविता

March 25, 2017

” लगन ये कैसी”?
———————

लगा के मेंहदी
डाल के घूँघट !
नाची आज
मयूर के जैसी !!
लाज-शर्म
चिलमन में छुपाई ,
धुन अलबेली !
बनी ये कैसी ??
तन भी नाचे !
मन भी नाचे !
लगी हृदय में
लगन ये कैसी ??
लहराती हूँ !
“दीप-शिखा”- सी
लगती भी हूँ !
उसी के जैसी ||
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Share this:
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
From: खेतड़ी
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended for you