लगता है !

लगता है !
होली पे तुम सब भूल कर
बड़ाओगे कदम आगे , लगता है
सच ही तो है ,क्या रखा है
छोटी -छोटी बातों को बड़ाने में
बार-बार रुठने और मनाने में
त्योहार यही तो हमें सिखाते हैं
एक मधुर एहसास कराते हैं
ये लाल, पीले , हरे, नीले रंग
जीवन की खुशियाँ लाते हैं संग
चलो भूलकर सभी गिले और शिकवे
फिर रंग जाएं उन रंगों में
जो बेरंग जीवन को रंगीन बनाकर
हमें , तुम्हें और जहां को सजाकर
देते हैं अनुभूति हसीन जहां की
वो दुनिया यहां राग ,द्वेष नहीं
बस हसीं , रंगीन जहां लगताहै
चलो मिलकर कोशिश करें
ऐसा हसीन जहां बनाने की
यहां गुलाल उड़ता हो आसमां तक
किसी की दुनिया बेरंंग न हो
किसी की वजह से कभी भी !
कामनी गुप्ता ***
जम्मू !

Like 1 Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share