.
Skip to content

रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लायी.

kapil Jain

kapil Jain

कविता

November 25, 2016

आज फिर तेरी याद आई-२
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई-२ !!

देखता हूँ राह घर आँगन में,
न जाने कब आओगी तुम ?
तुलसी भी है अब मुरझाई,
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई, .
आज फिर तेरी याद आई -२ !!

चेहरा तेरा याद कर-कर के,
तारीफे तेरी सोच-सोच के,
ना जाने कहा नींद गुम हुई,
लिखता हूँ अब रात रात भर,तेरी मेरी विरहाई,
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई-२ !!

सावन बिता बारिश बीती,
झूलो के मौसम बीते-बीते,
दर्द छुपाये हँसी के पीछे,
खुद अपने जख्मो को सिते,
है सब कुछ पास मेरे,पर हाथ है फिर भी रिते-रिते,
अब साथ है मेरे सिर्फ तन्हाई,
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई,आज फिर तेरी याई !!

अब तक याद है,मुझको वो मैसेज टोन,
जब तेरा मैसेज आता था,
मोबाइल मधुर आवाज में चिल्लाता था,
सुनकर उसकी चिल्लाहट,
मै नींद से उठ जाता था।
ना जाने क्यों की रुसवाई
रोम रोम में बेचैनी और आँखों में आँसू लाई,
आज फिर तेरी याद आई,आज फिर तेरी याद आई !!

कपिल जैन

Author
kapil Jain
नाम:कपिल जैन -भोपाल मध्य प्रदेश जन्म : 2 मई 1989 शिक्षा: B.B.A E-mail:-kapil46220@gmail.com
Recommended Posts
तेरे बिन
तेरे बिन ___________ मै यहाँ हूँ दिल वहाँ है बिखरा बिखरा सा अपना जहां है सपनों की इस दौड़ में खोये अपने गुम जाने कहाँ... Read more
ख़्वाब लिए जाता हूँ
आज रुखसत होना है तेरी महफ़िल से, तोहफे में तुझे प्यार दिए जाता हूँ। मुझे नजराने में अपने आँसू दे दो, मैं तुम्हे अपनी याद... Read more
एक गीत रचा हैं मैने....
एक गीत रचा हैं मैने.... एक गीत रचा हैं मैने........ एक गीत सुना हैं तूने.......... फिर याद मेरी यू आई, आँखों से आँसू निकला, एक... Read more
मुक्तक
मुझको फिर भूली हुई बात याद आयी है! चाहत की सुलगी हुई रात याद आयी है! मैं मुन्तजिर हूँ आज भी दीदार का तेरे, मुझको... Read more