23.7k Members 49.9k Posts

रोटी

“रोटी”
——–
रोटी कि क्या बात करें ?
रोटी तो रोटी होती है |
पतली-पतली गेहूँ की !
मक्के-बाजरे की मोटी है ||
कहीं सिकता !
तंदूर तड़पकर !!
कही तवे पर लोटी है ||
किसी के साथ दाल नहीं !
किसी के साथ बोटी है |
गोल-गोल है…..
कभी तिकोनी !
कभी बड़ी…..
कभी छोटी है ||
कोई भीगी पसीने में !
कोई कमाई खोटी है |
कहीं ओवन में फूल रही !
कहीं अंगारों में ओटी है ||
एक घर में !!!
कीमत नहीं ?
पिचके पेट में टोटी है !!
इस रोटी के रंग अनेक…..
रोटी तो आखिर रोटी है ||

——————————–
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”
============================

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
खेतड़ी
112 Posts · 54.3k Views
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू,...