.
Skip to content

रोटी की तलाश

Maneelal Patel मनीभाई

Maneelal Patel मनीभाई

कविता

September 25, 2017

रोटी की तलाश
•••◆◆◆◆•••••
(?मनीभाई रचित)
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
मुझे उस रोटी की तलाश है ,
जिसे अभी-अभी
अमीर के कुत्ते ने खाना छोड़ दिया था।
पर लगता है डर
यह जानकर
कि कहीं अमीर दुत्कार ना दे ,
कि मैंने छीन लिया निवाला
उसके वफादार के मुख का ।।

अंधेरे गुमनाम गलियों में भटकता
कूड़े कचरे में बांचता अपनी जिंदगी ।
मुझे ख्वाहिश नहीं कि
बांध लूं सपनों की गठरी ।
मेरी भूख ही मेरा अस्तित्व ।

हां !मैं कुपोषित हूं ।
पर मुझे परवाह नहीं।
ना मैं किसी घर का चिराग।
ना आंखों का तारा ।
ना ही किसी अंधे की लाठी ।

हां ! मैं वही असंस्कारी हूं ।
जिसके मां ने फेंक दिया,
नोंचकर अपने तन से ,
अपने संस्कार की दुहाई देकर ।
और सभ्य समाज में मिल गई
मुझे जिन्दगी भर की तन्हाई देकर ।

सच मानो तो मेरा तन
एक सजीव लाश है ।
एक जिद है उसमें जान भरने की
इसलिए तो
मुझे उस रोटी की तलाश है
जिसे अभी-अभी
अमीर के कुत्ते ने खाना छोड़ दिया था।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

Author
Maneelal Patel मनीभाई
मैंने रोमांटिक मोमेंट पर 1000 गीत लिखे हैं । अब नई कविता, हाईकु और छत्तीसगढ़ी कविता पर अपना मुकाम बनाना चाहता हूँ ।
Recommended Posts
_
मुझे नई सुबह की तलाशहै रात के अँधेरे में आग के घेरे में जल रहा आज जिन्दगी का पलाश है मुझे नई सुबह की तलाश... Read more
मुझे "मैं" की तलाश है क्या कोई मदद करेगा? अखबार मे खुद की गुमसुदगी का पैगाम दूँ भी तो कैसे जनाब चेहरे से आत्मा को... Read more
सुख की रोटी दाल
आएगा क्या वाकई ,... ऐसा कोई साल ! जनता को जिसमे मिले,सुख की रोटी दाल !! बीते सत्तर साल से, ...ठोक रहे हैं ताल !... Read more
((( सबसे बढ़कर रोटी )))
सबसे बढ़कर रोटी # दिनेश एल० "जैहिंद" रोटी, कपड़ा चाहिए मकान जीवन के लिए तीन सामान रोटी के बिना सब निष्प्रान सबसे बढ़के रोटी प्रधान... Read more