May 3, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

रोजगार

रोजगार
********
पहले ही
रोजगार का संकट
कम नहीं था,
ऊपर से कोरोना ने
और भी असहाय कर दिया।
किसी तरह पेट पल रहा था
उस पर भी लात मार दिया,
अब जियें या मरें
कुछ भी तो समझ नहीं आता,
माना कि जीवन जरूरी है
मगर जीवन के लिए भी तो
पेट भरना जरूरी है।
पेट भरने के लिए
रोजगार होना जरुरी है,
रोजगार होकर भी क्या होगा?
सबकुछ सामान्य रहना
सबसे जरुरी है।
तब जब रोजगार होगा,
जीवन का आधार होगा
जीवन से लगाव होगा
तब जाकर
खुशियों का संसार होगा ।
● सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.
811285921
©मौलिक, स्वरचित

2 Likes · 1 Comment · 6 Views
#24 Trending Author
Sudhir srivastava
Sudhir srivastava
541 Posts · 3.3k Views
Follow 3 Followers
संक्षिप्त परिचय ============ नाम-सुधीर कुमार श्रीवास्तव (सुधीर श्रीवास्तव) जन्मतिथि-01.07.1969 शिक्षा-स्नातक,आई.टी.आई.,पत्रकारिता प्रशिक्षण(पत्राचार) पिता -स्व.श्री ज्ञानप्रकाश श्रीवास्तव... View full profile
You may also like: