रोकें बाल मजूरी

बच्चे सीधे सच्चे होते
पल में हंसते पल में रोते
फूलों सा हरदम मुस्काते
तारों सा घर को चमकाते
इनकी शिक्षा बहुत जरूरी
आओ रोकें बाल मजूरी ||

खेलकूद बच्चों का हक है
अच्छा भोजन आवश्यक है
सही समय टीके लगवाए
इनका तन मन स्वस्थ बनाए
मत थोपे अपनी मजबूरी
आओ रोकें बाल मजूरी ||

डॉ रीतेश कुमार ‘सत्य’
बरुआसागर झांसी उत्तर प्रदेश

Like 4 Comment 1
Views 36

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share