Skip to content

रूला देती है जिंदगी

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

गज़ल/गीतिका

March 15, 2017

कभी हँसते हँसते रूला देती है जिंदगी,
कभी रोते रोते हँसा देती है जिंदगी|
अपना है कोन पराया है,
मुस्किल मे बता देती है जिंदगी||

सुख देकर दुख को हरती है,
पाप पुन्य सब कुछ करती है|
बेदो धर्म कुरानो को भी,
याद करा देती है जिंदगी||

अपना पराया भेद न समझे,
राह ऐसी दिखा देती है जिंदगी|
ठोकर खाकर संभले जो,
वो मार्ग वता देती है जिंदगी||

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303