.
Skip to content

रूठ कर यूँ हमें मत सताया करो

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

July 13, 2016

रूठ कर यूँ हमें मत सताया करो
प्यार हैं हम हमें तुम मनाया करो

ये सुना है बड़े कामकाजी हो तुम
आँसुओं की भी कीमत लगाया करो

जी रहे हैं यहाँ बस तुम्हें देखकर
रुख से पर्दा कभी तो हटाया करो

तुम अँधेरे मिटाने हमारे लिये
चाँद पूनम का बन जगमगाया करो

साथ बेटों के भी अब सुनो साथियों
बेटियाँ खूब अपनी पढ़ाया करो

जब भुला तुमने हमको दिया ‘अर्चना’
ख्वाब में भी हमारे न आया करो
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
चाहें  कितना भी तुम हमसे  शिकवा करो
चाहें कितना भी तुम हमसे शिकवा करो पर न खामोशियों को यूँ ओढ़ा करो दिल हमारा जरा ये बहल जाएगा ख्वाब में ही सही मिलने... Read more
शमअ प्यार का तुम जलाया करो
तिरगी का बहाना न बनाया करो शमअ प्यार का तुम जलाया करो हसरतें दिल में ना छिपाया करो प्यार की राह में गुल खिलाया करो... Read more
मौसम की बातों पे ना जाया करो..................
मौसम की बातों पे ना जाया करो जो दिल में हो खुल के बताया करो रूठे जब कोई तो मनाया करो चाँद सितारों की धूप... Read more
♥?न करो??
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
♥?न करो?? फूल बनकर तुम यूँ महका न करो•• बार बार मुड़कर यूँ देखा न करो•• लहरा बलखा के यूँ चला नकरो•• मदहोशी में तुम... Read more