Skip to content

“रूचि”

अमित मिश्र

अमित मिश्र

अन्य

October 24, 2017

रुचि!
एक अविस्मरणीय तोहफा
जिसे पाकर न रहता
शेष कुछ बाकी ।

सागर की असीम
गहराइयों जैसी
हृदय की गहराइयों से
उमड़ पड़ती है उमंग
जिसे पाकर

हृदय के अंतस्तल से
चाहता हूँ उसे मैं।।

Author
अमित मिश्र
अमित मिश्र शिक्षा - एम ए हिंदी, बी एड , यू जी सी नेट पता- 73 नारायण नगर जनपद हरदोई (उत्तर प्रदेश) जवाहर नवोदय विद्यालय वेस्ट खासी हिल्स मेघालय में कार्यरत । मोबाइल नंबर 9838449099 ई मेल amitkumarmishra0001@gmail.com
Recommended Posts
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
मै भी भीग जाऊँ!!
मैं भी भीग जाऊँ। ........................ सोचता हूँ एकबार मैं भी भीग जाऊँ। इस बरसात प्रिय के साथ घनी जुल्फों की छाव में प्रियतम की बाहों... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more