.
Skip to content

रुलाती है बेटियां

स्वाति सोनी 'मानसी'

स्वाति सोनी 'मानसी'

कविता

January 24, 2017

पीहर कभी ससुराल सजाती है बेटियां ।
दोनों कुलों का मान बढ़ाती है बेटियां ।

होती है बिदाई तो रुलाती है बेटियां ।
बाबुल का अरमान सजाती है बेटियां ।

इनके बिना अधूरी हर घर में रौशनी
चराग अंधेरों में जलाती है बेटियां ।

मत जुल्म करों दान की सूली पे चढ़ाओ,
हर वंश की बेला को बढ़ाती है बेटियां

बन कल्पना लक्ष्मी सुधा वसुंधरा ममता,
हो जिस रूप में दुनिया को बनाती है बेटियां ।

अहिल्या बनी सीता बनी द्रौपदी उर्मिला,
हर किरदार तहेदिल से निभाती है बेटियां ।

ये फूल जहां में यूँही खिलता रहे सदा,
दुआ बनके फरिश्तों की आती है बेटियां ।

स्वाति सोनी ‘मानसी’

Author
Recommended Posts
बेटीयाँ
क्या सच में होती हैं घर का श्रृंगार बेटियां, फिर समाज में क्यों दिखती आज भी लाचार हैं बेटियां माना कि पापा की लाडली ,माँ... Read more
बेटियां ?
जीवन को जीवन बनाती बेटियां बेटो का जीवन सजाती है बेटियां इस सृष्टि को सतत बनाती बेटियां फिर क्यों कोख में मारी जाती बेटियां घर... Read more
बेटियां
घर स्वर्ग हो जाता है जब घर में आती है बेटियां कण कण सुवासित होता जब घर में वास कर जाती है बेटियां रौनक आती... Read more
बेटियां
फूल सी खुश्बू लुटातीं बेटियां जब कभी भी मुस्कुरातीं बेटियां। खुशनुमा माहौल होता हर तरफ प्यार से जब खिलखिलाती बेटियां। हो जरूरत रोशनी की ग़र... Read more