शेर · Reading time: 1 minute

रुपैया वाला जेब

रुपैया वाला जेब देख के ,मिल जाएंगे जुड़ने वाले।
तुम्हारा परम् हितैषी बनकर ,आहिस्ता से मुड़ने वाले।
एक बात पते की कहता हूँ रखना इसपर ध्यान जरा,
कथित हितैषियों से बेहतर हैं ,देखकर होठ सिकुड़ने वाले।
-सिद्धार्थ पाण्डेय

2 Likes · 127 Views
Like
Author
अपने वक्त को एक आईना दिखा जाऊँगा। आज लिख रहा हूँ कल मैं लिखा जाऊँगा।। -सिद्धार्थ गोरखपुरी
You may also like:
Loading...