*रिश्तों का अहसास*

रिश्तों का पावन अहसास
भर देता है इक विश्वास
बुझे हुए मन दीपक में
जग सी जाती फ़िर से आस
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

82 Views
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित
You may also like: