.
Skip to content

रिश्ते

Rita Yadav

Rita Yadav

दोहे

June 24, 2017

रिश्ते में जब प्रीत हो ,लगे तभी वो खास l
प्रीत बिना रिश्ते सभी, लगते सदा उदास ll

रिश्ते सबको याद है ,फर्ज गए सब भूल l
साथ कष्ट में थे नहीं, बात करें ज्यो शूलll

द्वेष भाव मन के मिटा ,रखना रिश्ते साफ l
अपने यदि गलती करें ,कर देना तुम माफ ll

Author
Rita Yadav
Recommended Posts
II दर्द मुफलिसी का II
ना कोई दोस्त अपना, न पहचान कोई l जिस पर बीते वह ही जाने ,दर्द मुफलिसी का ll मतलबी यह दुनिया, मतलब के सारे रिश्तेl... Read more
ठगें सभी रिश्ते उसे
Rita Yadav दोहे Sep 6, 2017
ठगें सभी रिश्ते उसे, ठगे उसे परिवार l आज अकेले रो पड़ी, होकर वो लाचार ll 'रीता' वहांँ न जाइए, मिले जहांँ अपमान l हर... Read more
II दीप उम्मीद का II
मुश्किलें भी मिली चैन जाता रहा l ठोकरों से सदा जख्म पाता रहा ll चांद आता रहा और जाता रहा l दीप उम्मीद का जगमगाता... Read more
II  नसीबा हि दुश्मन.....II
नसीबा हि दुश्मन हमारा हुआ है l जहां डूबी कश्ती किनारा हुआ है ll मेरी मुफलिसी छोड़ जाती नहीं हैl मेरा घर हि उसका ठिकाना... Read more