मुक्तक · Reading time: 1 minute

रिश्ते भी हर किसी को ………

आंसू भी गम की आग बुझाने नहीं आते ,
दुःख दर्द में भी दोस्त पुराने नहीं आते|
जब जब तुम्हारा ज़िक्र छिड़ा दिल ने ये कहा,
रिश्ते भी हर किसी को निभाने नहीं आते| –आरसी

44 Views
Like
34 Posts · 3.6k Views
You may also like:
Loading...