.
Skip to content

राह

रवि रंजन गोस्वामी

रवि रंजन गोस्वामी

शेर

August 7, 2017

जाने किस राह जाते हैं वो,
राह में मिलते नहीं हैं वो ।

मुझे उनकी जरूरत क्यों
जिन्हें मेरी तलब न हो ।

जुनूने सफर में सोचा न था ,
मेरी राह में कोई कारवां न हो ।

Author
Recommended Posts
वो मेरी राह में दीवार बने बैठे है
RAMESH SHARMA शेर Feb 1, 2017
जो नसीहत मेरे किरदार से लेते थे कभी, वो मेरी राह में दीवार बने बैठे है .. वो समझते हों मुझे दूर भले ही खुद... Read more
राह सत्य की जाऊ में ? जो हो सो हो.. हर पल हर दम आती हे राह जीवन में दो एक राह हे सीधी सादी... Read more
राह अब आसाँ नही साहिल के थपेड़ों में
मुक्तक........ रतजगा करना अब उनकी आदत में है हमको सताना उनकी फ़ितरत में है लौट चले हम अब अपनी राह को अब उनकी चाह में... Read more
लहजा वो शराफ़त का अपनाए हुए हैं
देखा है हसीं ख्वाब वो घर आए हुए हैं हम हैं कि तसव्वुर मे ही शर्माए हुए हैं करेंगे कैसे कोई गुफ्तगू सनम से हम... Read more