.
Skip to content

राष्ट्र वही है विकसित जागी जहाँ जवानी

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

अन्य

March 15, 2017

(मुक्त छंद)
अटल आत्मविश्वास, बज्र-सा मानस तेरा |
जिस दिन बन जाएगा उस दिन नया सवेरा||
दिखलायेगा उन्नति का सूरज चढ़ता-सा|
होगा सत्यानाश दीनता औ जड़ता का ||
कह “नायक” कविराय बनो मानव तुम ज्ञानी|
राष्ट्र वही है विकसित जागी जहाँ जवानी||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

यह मुक्त छंद “दैनिकअमर उजाला समाचार पत्र” कानपुर में दिनांक -4 मई 1999 को पृष्ठ संख्या 6 पर “खास खत” के रूप में प्रकाशित मेरे लेख “राष्ट्र वही है विकसित जागी जहां जवानी ” के अंत में प्रकाशित हो चुका है|

वर्ष 1999 में मैं”उरई” में रहता था |

बृजेश कुमार नायक
सम्पर्क सूत्र – 9455423376
whatsaap-9956928367

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more