राष्ट्र वही है विकसित जागी जहाँ जवानी

(मुक्त छंद)
अटल आत्मविश्वास, बज्र-सा मानस तेरा |
जिस दिन बन जाएगा उस दिन नया सवेरा||
दिखलायेगा उन्नति का सूरज चढ़ता-सा|
होगा सत्यानाश दीनता औ जड़ता का ||
कह “नायक” कविराय बनो मानव तुम ज्ञानी|
राष्ट्र वही है विकसित जागी जहाँ जवानी||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

यह मुक्त छंद “दैनिकअमर उजाला समाचार पत्र” कानपुर में दिनांक -4 मई 1999 को पृष्ठ संख्या 6 पर “खास खत” के रूप में प्रकाशित मेरे लेख “राष्ट्र वही है विकसित जागी जहां जवानी ” के अंत में प्रकाशित हो चुका है|

वर्ष 1999 में मैं”उरई” में रहता था |

बृजेश कुमार नायक
सम्पर्क सूत्र – 9455423376
whatsaap-9956928367

Like Comment 0
Views 150

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing