राष्ट्रीय बालिका दिवस पर

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर
——————————
घर की शोभा बेटियाँ,दो दो कुल की लाज !
सबको होना चाहिए , इसी बात पर नाज !!

छोड़ रही हर क्षेत्र में , आज बेटियां छाप !
कहने वाले क्यूं कहें, कन्या को अभिशाप !!

क्यों ना उन्नत शीश हो, क्यों ना होवे नाम !
कर जायें जब बेटियाँ,….बेटों वाले काम !!

उत्तरदायी कौन है, …….किसकी है ये भूल।
सिमटी हैं कलियाँ अगर, खिले नहीं हैं फूल।।
रमेश शर्मा.

Like 1 Comment 0
Views 1k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing