रावण बदल के राम हो जायेंगे

खुली अगर जुबान तो किस्से आम हो जायेंगे।
इस शहरे-ऐ-अमन में, दंगे तमाम हो जायेंगे !!

न छेड़ो दुखती रग को, अगर आह निकली !
नंगे यंहा सब इज्जत-ऐ-हमाम हो जायेंगे !!

देकर देखो मौक़ा लिखने का तवायफ को भी !
शरीफ़ इस शहर के सारे, बदनाम हो जायेंगे।।

दबे हुए है शुष्क जख्म इन्हें दबा ही रहने दो !
लगी जो हवा, दर्द फिर सरे-आम हो जायेंगे।।

सुना है दानव भी बस गये है आकर रघुकुल में !
अब जरूर सारे रावण बदल के राम हो जायेंगे।।
!
!
!

डी. के. निवातिया
*** *** ***

Like Comment 0
Views 230

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing