.
Skip to content

राम मंदिर का दर्द

Sandhya Chaturvedi

Sandhya Chaturvedi

कविता

April 9, 2017

?????
काफिया -आरा
रदीफ़ -न हुआ
??????
**************
वाह रे मतलब की दुनियॉ,
कोई भी हमारा न हुआ।

राम मंदिर को तूल तो दिया ,
कोई आज तक किनारा न हुआ।

होता मौजूद वजूद ए रहमत ,
कोई करम का भाईचारा न हुआ।

होती रही जुस्त -जु
चमन- ए- बहार की,
हरकत में कोई इशारा न हुआ।

दौर आये हुकूमत के कई ,
मंदिर का कोई नजारा न हुआ।

कलयुग में कौन होगा सच्चा संध्या
राम को देशद्रोही गवारा न हुआ।।
????????????
✍संध्या चतुर्वेदी
मथुरा यूपी

Author
Sandhya Chaturvedi
नाम -संध्या चतुर्वेदी शिक्षा -बी ए (साहित्यक हिंदी,सामान्य अंग्रेजी,मनोविज्ञान,सामाजिक विज्ञान ) निवासी -मथुरा यूपी शोक -कविता ,गजल,संस्मरण, मुक्तक,हाइकु विधा और लेख लिखना,नृत्य ,घूमना परिवार के साथ और नए लोगो से सीखने का अनुभव। व्यवसाय-ग्रहणी,पालिसी सहायक,कविता लेखन
Recommended Posts
जन्मभूमि पर रामलला के मंदिर का निर्माण हो
पूरी हो मन की अभिलाषा जन जन का कल्याण हो जन्मभूमि पर रामलला के मंदिर का निर्माण हो आक्रंता था बाबर जिसने जन्मभूमि कब्जाई थी... Read more
मर्ज-ए-इशक
ना मुझे राम ना मुझे रहीम चाहिए ना नमक फिटकरी या नीम चाहिए मरीज हो गया हूँ मर्ज-ए-इश्क का टूटे दिल का करदे जो इलाज... Read more
ए. टी. एम.  को राम किया
यूपी जीतने की खातिर तूने ये कैसा काम किया । अच्छे दिन का वादा करके गरीबों का चैन हराम किया । तेरे झूठे जुमलों में... Read more
मुहब्बत का सलीका
मुहब्बतों का सलीका सीखा दिया मैंने, हिज्र-ए-इश्क़ में रह के दिखा दिया मैंने। गुजरी थी जो रात तेरे साथ,उस की खुश्बू को खुद में बसा... Read more