**** रामदेव को जबाव

****** रामदेव को जबाव ******
खुद सक्षम ना हो सके , चिढते यूं ही रोज !
बेचारे ना खा सके , मर्दो वाला भोज !!
मर्दो वाला भोज , जलन पत्नि वालों से !
किलस रहे कुछ लोग , बस यूं ही सालों से!!
कह “सागर” कविराय , बुद्धि इनकी सटयायी!
हो जाता मुंह बन्द , जो मिल जाती लुगायी !!
********
बैखोफ शायर/गीतकार/लेखक
डाँ. नरेश कुमार “सागर”
05/11/18 ………..9897907490

Like Comment 0
Views 37

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing