.
Skip to content

रानी अवंती बाई

guru saxena

guru saxena

कविता

August 18, 2017

रानी अवंतीबाई को श्रद्धांजलि
दुर्गा जैसी उतरी रण में रखा देश का पानी
जीवन भर वह रही जूझती हार कभी ना मानी
अठ्ठारह सौ सत्तावन की है यह बात पुरानी
रानी खास रामगढ़ वाली खूब लड़ी मर्दानी

लोधी वंश अंश की गरिमा रिपु दल विकराला सी
अंग्रेजी शासन को हर दम बनी प्रचंड ज्वाला जी
देश प्रेम पर मर मिटने कि हमको सीख सिखाई
अमर कर गई नाम सदा को वीर अवंतीबाई
जन जन में जाकर सदैव मैं गौरव गाथा गाऊं
आज तुम्हारा करूं स्मरण श्रद्धा सुमन चढ़ाऊं

Author
guru saxena
Recommended Posts
नमन
Santosh Khanna गीत Sep 21, 2017
भारत देश को मेरा नमन सदा प्रेम का पाठ पढ़ाता युद्ध इसे कभी नहीं भाता संस्कृति विहग है यह अपना देश देश संस्कार जगाता जैसे... Read more
रानी अवंतीबाई की बलिदान गाथा
महारानी अवन्तीबाई की बलिदानगाथा रानी का जन्म- 16 अगस्त 1831 बलिदान दिवस- 20 मार्च 1858 मातृभूमि की आन की खातिर, लड़ी अवन्तीबाई थी।। अंग्रेजों से... Read more
== नतीजे आएंगे ==
पता नहीं क्यों आज देश के बहुत हुए बदतर हालात। हत्या, उपद्रव, बाढ़, दुर्घटनाओं से पहुंचा जन-जन को आघात। जन-जन को आघात आकाओं को नहीं... Read more
कुण्डलियाँ
मानवीय सद्गुणों से, हुए कभी परतंत्र सदियों के संघर्ष से, मिला हमें जनतंत्र मिला हमें जनतंत्र, मिला न मन्त्र स्वदेशी संविधान ने किया, देश में... Read more