रात ही जब हुई मुख़्तसर

आदाब दोस्तो! आज रात फ़िलबदीह में हुई बहुत ही छोटी बह्र की एक ग़ज़ल कुछ यूँ-

मतला-

गो है आवारगी बेश्तर
हो गए शे’र अपने मगर

एक क़त्आ-

क्या गुमाँ नाज़नीनों को है
क्यूँ हैं घबराए हम इस क़दर
आई टोली है जब पील की
टूटते ही रहे हैं शज़र

और तमाम अश्आर-

मेरे अरमाँ सहम से गये
डाली तूने है कैसी नज़र

तेरे आने की हो क्यूँ ख़ुशी
तेरे जाने की है जब ख़बर

रौशनी हो सकी क्या, ये दिल
जबके जलता रहा रात भर

राबिते की वज़ह भी तो है
रूठना तेरा हर बात पर

मक़्ताशुदा एक और क़त्आ-

मंज़िले इश्क़ सर हो तो क्यूँ
रात ही जब हुई मुख़्तसर
वरना तो इश्क़ फ़र्माने को
एक ग़ाफ़िल भी रक्खे जिगर

-‘ग़ाफ़िल’

8 Views
मैं ग़ाफि़ल बदनाम
You may also like: