राज दोहावली से -

जब अंधियारा था रमां, राम रमाया नाय|
विकट अंधेरा पायके , रमा रमा चिल्लाय ||

18 Views
एक हिन्दी कवि एवं लेखक जो कविता, गीत, गजल, मुक्तक, दोहा, छंद रचनाकार श्रंगार रस...
You may also like: