.
Skip to content

राजनेता और लोग//जनता सवाल पूछती है,

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

कविता

October 31, 2017

जनता सवाल पूछती है,
पार्टियां जवाब नहीं देती,

क्यों रोंदते हो हमें !
तुम तो
हमारे अपने हो !

हर पाँच साल में याद दिलाने आते हो,

हमें भी तो भूख लगती है,
पगार अपनी बढ़ाने बैठे हो,
हम पर दुनियाभर के टैक्स,
खुद कर-मुक्त सौदा करते हो,

कहाँ है तुम्हारे ?
वो तुम्हारे चिट्ठे..
घोषणा-पत्र जिसे कहते हो ?

सवा सौ संशोधन किए तुमने,
क्यों लोकतंत्र की मजाक उड़ाते हो ?
करो ? एक और संशोधन इस पर,
गर काम नहीं हुआ घोषणा-पत्र पर,
नहीं शक्ल दिखाने आओगे,
.
प्रारूप भीम का याद करो,
हर अध्याय हर अनुच्छेद हर धारा,
सोच समझ प्रयोग करो,
.
गर सेवक हो,
मत हिंदू-मुस्लिम में भेद करो,
जाति वर्ण के भेद दूर करो और,
फिर देश को आरक्षण मुक्त करो,
.
बाबा साहब ने गुलाम और आजाद भारत को देख संविदा को …प्रारूप दिया,
इतना लचीला इतना प्यारा संविधान दिया जिसको विश्व ने सम्मान दिया,
.
हम जनता हैं,हम वोटर है,
*हम भीड़ हैं,
हमारी न शक्ल, न सूरत,
हम जिस पर फिदा हो जाएं,
फिर कौन अंधा, कौन सुहाखा*
जिनके खिलाफ खड़े हो जाएं सर्वनाश,
.
संविधान की प्रथम पंक्तियाँ;-
डॉ महेंद्र सिंह बखान करो,

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
तुम्हारे अंदर ही राम है,तुम्हारे अंदर ही रावण है/मंदीप
तुम्हारे अंदर सच है तुम्हारे अंदर जूठ है फिर क्यों अपने मन से जूठ नही निकलते। तुम्हारे अंदर भगवान है तुम्हारे अंदर सेतान है फिर... Read more
बस तुम्हारे लिए !
बस तुम्हारे लिए ! बस तुम्हारे लिए, फूल खिलता है क्यों, दिन निकलता है क्यों, रात ढलती है क्यों, यों तमन्ना किसी की मचलती है... Read more
वतन का सिपाही
प्रबुद्ध हो, आरूढ़ हो, हौसले मचान हैं तू वतन का पासवा, तू वतन की शान है डरा नहीं जो भीत से, डरा नहीं जो शीत... Read more
थोड़ा सहज सोंचे !जरा हटकर !
सबकुछ इतना फास्ट हो चुका है, डॉ महेन्द्र पसंद है, उसकि रचनाएं पसंद है, . शीर्षक क्या है? उस रचना में विषय कैसा है, उससे... Read more