.
Skip to content

राजनीति का गिरता स्तर

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

मुक्तक

November 3, 2016

राजनीति का स्तर देखो गिरने की कोई लिमिट नहीँ है ।
एक सिपाही मरा सड़क पर ड्रामा करना हमे यहीं है
हमसे बड़ा हितैषी उसका आज देश में कोई नहीँ है ।
क्या कानून नियम कोई टूटे मुझको इसकी फिकर नहीँ है ॥
ओ आर ओ पी क्या है देखो इसकी मुझको ख़बर नहीँ है ।
मै हूँ नेता राजनीति करना मेरा तो बस धर्म यहीं है ॥

विजय बिज़नोरी

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
भारत आज बन्द नहीँ होगा
कितना भी तुम जोर लगा लो ,भारत आज बन्द नहीँ होगा । सब मिल जुल कर पूल बना लो ,भारत आज बन्द नहीँ होगा ॥... Read more
गज़ल :-- ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ॥
गज़ल :-- ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ।। मापनी :-- 2122--2122--2122--212 दिल में शोले जो रखे हों वो जला करते नहीँ । क्या... Read more
जान भी और इमान भी पैसा
हर विकार की जड़ है पैसा , हर मुश्किल का इलाज है पैसा । क्यों माता ने खोया बेटा ,क्यों नहीँ काम आया यह पैसा... Read more
गज़ल :-- अब हमारे दरमियां भी फासला कुछ भी नहीँ ।।
तरही गज़ल :-- 2122--2122--2122--212 आसरा कुछ भी नहीँ है वासता कुछ भी नहीँ । ज़िंदगी तो चंद लम्हों के सिवा कुछ भी नहीँ । बिन... Read more