राखी

****************
“एक डोर, दो बंधे जिससे छोर,
रेशा- रेशा जिसका चित्तचोर,
रोली-अक्षत की खुशबू इसमें,
बंधते है जिससे वचन कठोर।
‘बसती इसमें है मासूम जिद,
ना होता अधिकारों का शोर।
भाई बहन का ऐसा नाता,
रहे सदा एक दूजे की ओर।
#रजनी

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share