गीत · Reading time: 1 minute

राखी गीत

राखी के पावन पर्व पर देश के समस्त भाई बहनों को सादर समर्पित
??????
सावन के माह में जब ये पुर्णिमा है आई
गद गद हुआ है भाई बहना भी मुस्कुराई
सावन—–

1-
भाई की अपने बहना फिर आरती उतारे
खुशियां हजारों अपनी बीरन पे अपने वारे
हल्दी के साथ रोली माथे पे है लगाई
सावन—-

2–
जुग जुग जियो हे भाई मेरी लाज़ तुम बचाना
कह करके फ़र्ज़ तुमको राखी की है निभाना
रेशम की डोर से फिर है बाँधी ये कलाई
सावन—

3-

हम माँगते नहीं कुछ बस चाहती हूँ इतना
बन कर रहूँ हमेशा तेरी लाडली मैं बहना
बेटी भी हूँ तुम्हारी करना तू रहनुमाई
सावन —-

4-

अनमोल है मुहब्बत भाई-बहन की “प्रीतम”
राखी तो इक दुआ है भाई का राखी परचम
रक्खेंगे मान बहना हमने क़सम उठाई

प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
07/08/2017

51 Views
Like
You may also like:
Loading...