रांझे की हीर

रांझे की हीर

कल तक करते देखा था मुहब्बत कि खिलाफत जिनको।
आज शिद्दत से करते पाया एक रांझे कि वकालत उनको ।
ऐसा क्या हुआ, फिजा-ऐ-मिजाज़ ही बदल गया पल में ।
बन रांझे की हीर अच्छी लगने लगी जमाने कि जलालत उनको।।



डी. के. निवातिया

Like Comment 0
Views 103

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing