रहे याद रिश्ते बनाने से पहले

रहे याद रिश्ते बनाने से पहले
कि देना भी पड़ता है पाने से पहले

जरा झाँक लेना गिरेबान अपना
किसी पर भी उँगली उठाने से पहले

कहीं डर न जाना यहाँ देखकर गम
रुलाता है भगवन हँसाने से पहले

न अंजाम कुछ सोचते हैं कभी भी
दीवाने यहाँ दिल लगाने से पहले

अगर बात दिल की किसी से है कहनी
परख उनको लेना बताने से पहले

करो ‘अर्चना’ सैर व्यायाम योगा
सुबह की किरण में नहाने से पहले

डॉ अर्चना गुप्ता

7 Comments · 138 Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: