गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

रहे याद रिश्ते बनाने से पहले

रहे याद रिश्ते बनाने से पहले
कि देना भी पड़ता है पाने से पहले

जरा झाँक लेना गिरेबान अपना
किसी पर भी उँगली उठाने से पहले

कहीं डर न जाना यहाँ देखकर गम
रुलाता है भगवन हँसाने से पहले

न अंजाम कुछ सोचते हैं कभी भी
दीवाने यहाँ दिल लगाने से पहले

अगर बात दिल की किसी से है कहनी
परख उनको लेना बताने से पहले

करो ‘अर्चना’ सैर व्यायाम योगा
सुबह की किरण में नहाने से पहले

डॉ अर्चना गुप्ता

7 Comments · 173 Views
Like
1k Posts · 1.3L Views
You may also like:
Loading...