मुक्तक · Reading time: 1 minute

रहम कर

अरे ओ जाने वाली हवा, सुन ज़रा
इन बिखरी यादो को समेट ले ज़रा
बहुत सताती है ये तेरे जाने के बाद
वफ़ा के नाते रहम कर हम पर जरा !!

1 Like · 2 Comments · 101 Views
Like
You may also like:
Loading...