*रहमत*

कदम तेरी चौखट पर जब सेरखा है
आसमां से भी ऊंचा मेरा सर
लगता है
तेज आँधियाँ है, फिर भी मैं रोशनहूँ
ये सिर्फ तेरी रहमतों का असर
लगता है
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share