.
Skip to content

रहमतें

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

June 29, 2016

हँसी खुशी चल रही थी जिन्दगी
फिर वो काली रात आ गयी
नींव ही खुदी थी आशियाने की
भारी आँधी बरसात आ गयी
कोसते रहे इस मौसम को हम
मन में भीगने की बात आ गयी
भीगने निकले ही थे बाहर घर से
धूप भी हमारे ही साथ आ गयी
हर तरह खुद को ढाल लिया हमने
तोड़ने हर बार कायनात आ गयी

“सन्दीप कुमार “

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
दर्द निस्बत मुझे कुछ खास हो गयी है
जो भी ख़लिश थी दिल में एहसास हो गयी है दर्द निस्बत मुझे कुछ खास हो गयी है वजूद हर ख़ुशी का ग़म से है... Read more
मुक्तक
शाम होते ही तेरी याद आ गयी है! शबनमी लम्हों की फरियाद आ गयी है! वही तेरी जुल्फें वही बलखना तेरा, फिर वही खुशबू मुद्दत... Read more
क्या सोच कर तुम,नए मोड़ पर आ गयी...
क्या सोच कर तुम,नए मोड़ पर आ गयी। कहा से चले और कहा आ गयी, नाव कब का ओ किनारा छोड़ बढ़ने लगी थी, फिर... Read more
महोब्बत…………….. हो गयी है |गीत| “मनोज कुमार”
महोब्बत हो गयी है हो गयी है हो गयी है कसम से यार जानेमन महोब्बत हो गयी है तुम्हीं से यार बेइन्तहा महोब्बत हो गयी... Read more