.
Skip to content

” रहने दो “

Brijpal Singh

Brijpal Singh

लेख

June 21, 2016

‘योग’ ही रहने दो ‘योगा’ न बनाओ…
अ को ‘अ’ ही रहने दो…. यूं ‘आ’ न बनाओ,
योग को ‘योग’ रहने दो….’योगा’ न बनाओ।
मैंने कब इंग्लैंड को ‘इंग्लैंडा’, ब्रिटेन को ‘ब्रिटेना’ कहा,
मेरे हिन्द को ‘हिन्द’ ही रहने दो, ‘इंडिया’ न बनाओ।
अंग्रेजीयत का प्रदर्शन करने वालों से कोई जलन नहीं,
मगर मेरे ‘महाराष्ट्र’ को….. ‘महाराष्ट्रा’ न बनाओ।
मुझे प्यार है असीम…. मेरी भाषा के शब्दों से,
आंध्र को ‘आंध्र’ ही रहने दो… ‘आंध्रा’ न बनाओ।
‘अकबर’ को ‘अकबरा’… ‘माइकल’ को ‘माइकला’ न कहा,
तो अशोक को भी ‘अशोक’ रहने दो… अशोका न बनाओ।
मैंने बाइबल को ‘बाइबल’, कुरान को ‘कुरान’ ही रहने दिया,
तुम भी रामायण को ‘रामायण’ कहो ‘रामायना’ न बनाओ।
हिन्द ने जीसस को ‘जीसस’, मोहम्मद को ‘मोहम्मद’ ही रखा
तो राम को भी ‘राम’ ही रहने दो … ‘रामा’ न बनाओ।
मैंने हर नाम का सम्मान, हर भाषा की इज्ज़त की है,
तो फिर नरेन्द्र को ‘नरेन्द्र’ रहने दो, ‘नरेन्द्रा’ न बनाओ।
योग-दिवस की पूर्व संध्या पर, पुनः निवेदन है मेरा, मेरे योग को योग ही पुकारो “योगा” न बनाओ !

Author
Brijpal Singh
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा... Read more
Recommended Posts
मेरे दोस्तों
कविता मेरे दोस्तों - बीजेन्द्र जैमिनी एक-एक पौधा लगाओ मेरे दोस्तों पौधे को पड़े बनाओ मेरे दोस्तों जीवन होता है अनमोल - ऐसा संकल्प बनाओ... Read more
शायरी
न मारो उठा का पत्थेर, उस फिजां में यहाँ पर रहने वाले तुम्हारे अपने ही है, न आग का दरिया बनाओ इस शेहर को यहाँ... Read more
जामे-मयखाना ओ बोतल को पड़ा रहने दो
ग़ज़ल ******* नाम इस दिल पे तुम्हारा ही लिखा रहने दो प्यार का दीप जला है तो जला रहने दो ??? और जीने की दुआ... Read more
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?" *रहने दे*? " *सुनेहरी यादों को अपने बीच रहने दे*" " *जुबां पर हर वक्त शक्कर सी मिंठास रहने दे*" " *मत गुल और... Read more