Reading time: 1 minute

इक पल जो उनसे मेरी मुलाकात हो गई

ग़ज़ल
इक पल जो उनसे मेरी मुलाकात हो गई।
यादों की साथ देखिए बारात हो गई।।

तुमने लगाई थी जो चमेली पड़ौस में।
महका रही है घर मेरा सौगात हो गई।।

हमराज़ मेरा ही मेरे दुश्मन से जा मिला।
होती तो जीत मेरी मगर मात हो गई।।

फांके से दिन गुज़ारता मुफ़लिस पड़ौस में।
तकसीम शह्र में तेरी ख़ैरात हो गई।।

जो अब्र मुझपे छाये थे बरसे है दूर जा।
प्यासा “अनीस ” ही रहा बरसात हो गई।।
– – – – – – – – – – –

149 Views
Copy link to share
Anis Shah
Anis Shah
101 Posts · 3.6k Views
Follow 2 Followers
ग़ज़ल कहना मेरा भी तो इबादत से नहीं है कम । मेरे अश्आर में अल्फ़ाज़... View full profile
You may also like: