23.7k Members 50k Posts

रस्मे मुहब्बत

★★★★ग़ज़ल★★★★

आसान नहीं हैं
रस्में मुहब्बत की निभाना…

दूर तक जाना
फिर लौट कर आ जाना….

कुछ कसमों और वादों की
एक दुनिया बसना ……

कभी उसको याद करना
कभी खुद को भूल जाना ….

एक अनदेखे से एहसास को
सदियों तक निभाना ……..

मिशा…


1 Like · 34 Views
मिशा मै अपराजिता
मिशा मै अपराजिता
देहरादून
18 Posts · 697 Views
बरसात की एक शाम नाट्य विधा - औरत दास्ताँ दर्द की नाट्य विधा - जिंदगी...
You may also like: