· Reading time: 1 minute

रवि और शशि की कर्तव्य निष्ठ प्रीति

विचरते दोनो ही एक ही गगन में,
परंतु जाने क्यों भेंट नहीं हो पाती ।

रवि उदय होता तो शशि अस्त रहता,
शशि उदय होता रवि किरणें छुप जाती।

यह कैसा विरोधाभास है दोनो के मध्य ,
इस अनबन का राज धरती नहीं जानती ।

एक ही प्रकृति की है दोनो संताने परंतु ,
स्वभाव में भिन्नता है इनके पाई जाती ।

एक अत्यंत गरम है और दूसरा शीतल ,
एक रोष में रहे दूजे से प्रेम धारा बहती ।

परंतु दोनो का है एक संबंध रोशनी से ,
बस यही समानता इनमें है पाई जाती ।

रात दिन धरती को रोशनी देने का फर्ज ,
इस एक फर्ज ने दोनो के मध्य जोड़ी प्रीति ।

प्रकृति के आदेश से व् ईश्वरीय विधान से,
कर्तव्यों में इन्हें बांधने की बनाई गई रीति ।

जबसे यह सृष्टि बनी यह रीति अटूट रही ,
मनुष्य भी इनसे प्रेरणा ले तो बदल जाए ,
उसकी जीवन नीति ।

5 Likes · 6 Comments · 266 Views
Like
Author
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक…
You may also like:
Loading...