.
Skip to content

रमेशराज की एक तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

June 3, 2017

दारू से कुल्ला बम भोले
अब खुल्लमखुल्ला बम भोले |

ईमान बेचकर इस युग में
खुश पण्डित-मुल्ला बम भोले |

हर रोज सियासत मार रही
चाँदों पे टुल्ला बम भोले |

हक़ मांगो, मौन साध जाता
जो बड़ा बतुल्ला बम भोले |

मतलब निकला तो लोग मिले
गालों के फुल्ला बम भोले |

बीबी घर आते क़ैद हुए
जो देखे डुल्ला बम भोले |

जाने किसको अब बांधेगा
रस्सी का गुल्ला बम भोले |
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
रमेशराज की  तेवरी
जनता की थाली बम भोले अब खाली-खाली बम भोले | श्रम जिसके खून-पसीने में उसको ही गाली बम भोले | इस युग के सब गाँधीवादी... Read more
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
पीयें ठर्रा-रम बम भोले हम सबसे उत्तम बम भोले | जनता से नाता तोड़ लिखें सत्ता के कॉलम बम भोले | + हम पै कट्टे-बम... Read more
मन ईलू-ईलू बोले  [  लम्बी तेवरी-तेवर चालीसा  ] +रमेशराज
घोटाले मंत्री को प्यारे, लिपट पेड़ से बेल निहाल छिनरे सुन्दर नारि ताकते खडे़ हुए हैं बम भोले। 1 अज्ञानी को मद भाता है, भला... Read more
शिव शंकर भोले
Rita Yadav गीत Jul 10, 2017
गंगाधर, विषहर ,शिव, शंकर ,भोले बम बम बम बम हर हर बम भोले संग आपके मात गौरा विराजे तीनो लोक में डमरु बाजे प्रभु अविनाशी,... Read more