.
Skip to content

रचना का उद्देश्य:-*आत्म-जागृति*

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

कविता

November 10, 2017

*सोचा कुछ विषय दोहन करें,
इस तन मन धन पर विचार करें,
बहस करें विवेक जगे,

विषय हो धर्म वा राजनीति,
भाषा-संभाषा करने को,
उपयुक्त उत्तर नहीं बचा हो पास में,

अब क्यों न कुर्सी उठाकर वार करें ?
याद किए कुछ श्लोक दोहे चौपाई रमैणी संवैया क्यों न इनको पेश करें,

ये कैसा जमाना है,
खुद का नहीं कुछ पास में,
अंध-अनुकरण,अंध-श्रृंगार है पास में,

खुले कैसे वेद-शास्त्र,
चाबी नहीं है साथ में,
सुध-बुध नहीं है पास में,

शरण खुद की ही भली,
आतम चेतन हो आधार,
सवत: सब बंद द्वार खुल सके !

विशेष:-
“रचना का उद्देश्य”-“आत्म-जागृति”
विवेक जगने और जगाने तक ही बुद्धो की शरण की प्रेरणा का औचित्य समझाना,
अपने विवेक की डोर किसी के हाथ में न दे,
जीते जी मुक्त होने के लिए अति-आवश्यक,
असल में आपकी चेतना ही
आपका गुरु
आज नहीं तो कल हो जा शुरू, परमहिताय..परमसुखाय,

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
पास जो पैसे नहीं तो, कौन किसका यार
एक अपदान्त गीतिका ................................. जब यहाँ पे झूठ का ही, है महज बाजार, कर नहीं देते मेरा तुम, क्यों नहीं संहार। धन अगर जो पास... Read more
गमदीदा हूँ
गमदीदा हूँ पर एहसास कुछ खास सा है, ऐसा लगा वो दूर नहीं, वो मेरे पास सा है, नृग की मन्नतों में एहसास जन्नतों का... Read more
आपसे हूँ
आपसे हूँ अब गुलजार खुदा जाने क्यों हर बुरे वक्त तू आधार खुदा जाने क्यों लाड़ मेरे अन्दर था निकला वो वाहर हो गयी है... Read more
आपसे हूँ गुलजार
आपसे हूँ अब गुलजार खुदा जाने क्यों हर बुरे वक्त तू आधार खुदा जाने क्यों : पास वो आकर बातें जब करता मीठी है बढी... Read more